welcome to the blog

you are welcome to this blog .PLEASE VISIT UPTO END you will find answers of your jigyasa.

See Guruji giving blessings in the end

The prashna & answers are taken from Dharamdoot.




AdSense code

IPO India Information (BSE / NSE)

Saturday, January 31, 2015

जीने का तरीका






  • आपके पास आटा हे ,दाल हे ,पानी हे ,मगर रोटी बनानी नहीं आती तो कैसे बनाओगे ! ठीक इसी प्रकार भगवान ने जिंदगी दी हे पर जीने का तरीका नहीं दिया व्ह सदगुरु देता हे 

Friday, January 30, 2015

कठिनाई तुफानों





अचल रहा जो अपने पथ पर लाख मुसीबत आने में,

मिली सफलता जग में उसको जीने में मर जाने में!

खडा हिमालय् बता रहा हे डरो न आंधी पानी से ,

खडे रहो अपने पथ पर सब कठिनाई तुफानों में !

Thursday, January 29, 2015

पानी जैसे बर्तन




  • पानी जैसे बर्तन में रखा जाए वैसा ही रूप धारण कर लेता है ! वैसे ही जैसी संगति में बैठोगे वैसा ही रूप आपके अन्दर झलकने लग जायेगा!
Visit Daily BLOGS For MORE POSTINGS
http://jiggyaasa.blogspot.in/
http://adhyatmik.blogspot.in/
http://rajmgarg.blogspot.in/
http://guruvatikasechunephool.blogspot.in/
http://wwwmggsantvani.blogspot.in/
http://ammritvanni.blogspot.in/
http://guruvanni.blogspot.in/
http://mggarga.blogspot.in/



परम पूज्य सुधांशुजी महाराज


  • रोज यह सोचो की हम उलझन सुलझा रहें हैं या उलझन बढ़ा रहे हैं !

ज्ञान की दिशा

Visit Daily BLOGS For MORE POSTINGS
http://jiggyaasa.blogspot.in/
http://adhyatmik.blogspot.in/
http://rajmgarg.blogspot.in/
http://guruvatikasechunephool.blogspot.in/
http://wwwmggsantvani.blogspot.in/
http://ammritvanni.blogspot.in/
http://guruvanni.blogspot.in/
http://mggarga.blogspot.in/



परम पूज्य सुधांशुजी महाराज



ज्ञान की दिशा गुरू देता है ,बिना ज्ञान के आपकी चिंता ,आपका अज्ञान नहीं मिटता !

Wednesday, January 28, 2015

उपयोगी बातें





सबसे ऊचां क्या है ? - आकाश
सबसे गतिशील क्या है ? - मन में उठने वाले विचार
सबसे आसान काम क्या है ? - सलाह देना
सबसे कठिन काम क्या है ? - अपने को पहचानना

जिस दिन आप पहचान लोगे आप अपने को जरूर ऊँचा उठा लोगे, उपर उठा लोगे और जीवन सफ़ल बना लोगे, धन्य बना लोगे !

Tuesday, January 27, 2015

SADGURU CHALISA



SADGURU CHALISA
Shree Guru charan ki mahima, kath kathi nah jaye,
Mujh tujh buddhi deen par, Sat Guru hongey sahai
.
Dhool Guru kay charnoh ki, chandan aur abeel bani,
Jisney bhee mastak say lagai, uus ki hi takdeer bani
.
Guru toh sumrat saayiyah, main kaisey karuoo bakhaan,
Daya karkey deen par, charnoh mein diya sthaan.

Is buddhiheen kah, Guru koti koti Pranaam,
Jaanu main kuch bhee nahi, kaisay karu bakhaan
.
Jaisey surya prakaash kay aagey, Deepak ki kya pahchaan,
Aisay deen dayal Gurudev koh baram bar pranaam.

Guru gyaan ki ganga bahati rahey din raat,
Gotah jis neh bhee lagaya, wah hoh gaya bhav say paar.

Guru gyaan ki khaan hain, bantath hain din raainh
Paayeh koi badbaaghi miteh janmoh ka mail.

Guru mahima wohi jaaney, jinh Guru kiya hoi,
Nugura jan kya jaaney, Guru rasna kaisi hoi.

Guru bin gyaan nah upjay, kattey nah karm ki dhaar,
Guru bin mittey nah apaha, Guru bin ghor andhaar.

Guru hain Parmeshwar, Parmeshwar Guru maahi,
Donoh paraspar aik hain, donoh main bedh hai naahi.

Satguru kay sat bodh say, upjay bakti veraam,
Moh maya bandhan chootay, anth pavey vishraam.

Guru dev kripa karkay, diya naam aadhar,
Joh Guru miltay naahi, toh jatah jamh kay dwaar
.
Guru seva joh karey, janam safal ho jaaye,
Jaisey mitti dhaan sangh, dhaan kay mol bikaye.

Guru dev daata kay main hun avgun bhari,
Raakh lejyo laaj, main hoon sharan padi.

Saddah hamarey chith baso, mohey bisro nah ek baar,
Yah var mangoo baar baar, rahey tumharo dhyaan uchaar.

Guru dev mantra dey kay, bana diya dhanwaan,
Sansaar kay juthey dhan ki ab hoh gai hai pahchaan.

Satguru hain sanghi saathi, Sat Guru hain aadhaar,
Satguru kay satbodh say , hoh jaye beda paar
.
Guru badey kumhaar hain, garr-garr kadhey khot,
Andar detey hathra, baahar detey chot
.
Guru ki mahima hai nyari main kaisey karu bhakhaan,
Jaisey saagar ki gharayi koi sakka nah jaan.

Baadal barsey ritu apni, Guru barsey nit name,
Tann mann sheetal karey, aise Guru ki daain.

Laakho chanda ugey, suraj chadhey hajaar,
Guru bin gyaan nah upjay, Guru bin ghor andhaar.

Aik najar doh aankh hai, aik shabd doh kaan,
Yuoo Guru Parmeshwar aik hain jaan sakey toh jaan.

Aatma aur Parmatma judha rahi bahu kaal,
Sundar milaap kar diya Sat Guru deen dayal.

Jitney nabh main taarey, utney avgunn hamarey.
Kripa Guru dev karey, avgunn kabahu nah niharey.

Sat Guru ki kripa say,mitta moh agyaan,
Mann andar aanand bahyo, door huwa abhimaan.

Sat Guru baday dayalu hain, parkhey khara aur khot,
Bhav saagar say nikaal kay raakhey apni oat.

Sat Guru shanti swaroop hain, joh nit-nit darshn pay,
Antaar anhadh anand miley, jeevan safal ho jaye.

Guru puran parmatma, daya drishti joh hoy,
Ta kay dukh dard mittey, Brahma milengey toye.

Teen lok nav khandh mein, Guru sumh data na koi,
Karta kare nah kar sake, Guru karey so hoi.

Guru dev data kay, joh bhee sharan mein jaaye
Aapaha mittey mann ka, nit-nit darshan paye.

Guru gunn main kya likhu, koi nah sakhey gaye,
Main tutch buddhi kya janu, Guru dev hoingey sahay.

Guru kripa shabri par hui, hariji pahunchey dwaar,
Jeevan uska safal huaa, Prabhu prataksha nihaar.

Guru badey sharaaf hain, nit-nit kadey khot,
Bhav saagar say nikaal kay, raakey apni oat.
Guru ki seva safal hai, jisney ki chith laayi,
Usey sahaj mukti millee, bandhan chutey shan maahi.

Guru badey rangrej hain, rang charayo choko,
Aisa rang mein rang diya, aab bhay kachu nahin mokho.

Par brama Parmeshvar Satguru, Aap ho karanhaar,
Bramha ved puran bhee, Paye sakey na paar.

Guru samarth maali hain, seechey kanto kay beech,
Duniya kay prapanch say liyo shishya koh kheench.

Guru badey hi ved hain, liyo rog ko khoj
Aisey dawa dey dinihi, rahyo na dukho ko bhoj.

Sat Guru deen dayal nay, rangi chadariya aisey,
Dhobi dohey dohey thakiya mori chaadar vaisee ki vaisee.

Varad hast Guru dev kay, jaakay sheesh dharey,
Akaal mrityu tin say koson door tarey.

Sat Guru Chaalisa name say, padey sunney sadbaar,
Sukh shanti ghar aaway, Paavey moksh ka dwaar.

Om Shanti! Shanti! Shanti!




Monday, January 26, 2015

जीवन में हर परिस्थिति में प्रसन्न रहने





• जीवन में हर परिस्थिति में प्रसन्न रहने का स्वभाव बनाओ ! 
• प्रसन्न रहने के लिए कुछ चीजों का पालन करना चाहिए !
• १-ऐसे न कमाओ की पाप हो जाए ,
• २-ऐसे कार्यों में न उलझो की चिंता का जन्म हो जाए, 
• ३-ऐसे न खर्च करना की कर्ज हो जाए ,
• ४-ऐसे मदमस्त होकर न खाना की मर्ज हो जाए ,
• ५-ऐसी वाणी न बोलना की कलेश हो जाए ,
• ६-संसार की उबड़ खाबड़ राहों में ऐसे लड़खड़ाकर न चलना कि देर हो • जाए
प्रसन रहने के लिए यह महत्वपूर्ण संदेश है !

Sunday, January 25, 2015

जैसे धन को




जैसे धन को महत्त्व देते हो उससे जयादा महत्व समय को दो !
धन का दुरूपयोग मत करो !
हर काम आपका चरित्र है इसलिय हर काम को पूर्णतया से करो !

    Friday, January 23, 2015

    विनम्रता व्यक्ति

    विनम्रता व्यक्ति की शक्ति है। विनम्रता में इतनी शक्ति है कि

     सामने वाला वशीभूत हो जाए।


    परम पूज्य सुधांशुजी महाराज

    पानी जैसे बर्तन


    पानी जैसे बर्तन में रखा जाए वैसा ही रूप धारण कर लेता है ! वैसे ही जैसी संगति में बैठोगे वैसा ही रूप आपके अन्दर झलकने लग जायेगा!

    आप जीने के



    हम प्रकृति के नहीं हैं यह हमें भोगने के लिये दी गयी है !

    आप जीने के लिये खाते हैं ,खाने के लिये जीवन नहीं है !

    Thursday, January 22, 2015

    सत्संग


    • सत्संग और स्वाध्याय आचारवान बनाते हैं !
    • कुसंग और कुसाहित्य आचारहीन बनाते हैं !

    कायरता का नाम






    परम पूज्य सुधांशुजी महाराज


    • •कायरता का नाम भक्ती नहीं है , भक्त तो दुष्टता बाहर की और अपने अन्दर की भी खतम करनाजानता है !
    • •जब कोई बस नहीं चलता तो कहते हें चलो माफ किया ऐसानहीं होना चाहिये ,दुष्टता को माफ मत करो !

    Wednesday, January 21, 2015

    भक्त तो दुष्टता

    • •कायरता का नाम भक्ती नहीं है , भक्त तो दुष्टता बाहर की और अपने अन्दर की भी खतम करनाजानता है !
    • •जब कोई बस नहीं चलता तो कहते हें चलो माफ किया ऐसानहीं होना चाहिये ,दुष्टता को माफ मत करो !

    Fwd: [ANANDDHAM.ORG] आनंदधाम आश्रम


    ---------- Forwarded message ----------
    From: Madan Gopal Garga <mggarga312@gmail.com>
    Date: 2009-03-02 12:56 GMT+05:30
    Subject: [ANANDDHAM.ORG] आनंदधाम आश्रम
    To: mggarga@gmail.com






    आनंदधाम आश्रम











    • आओ चलें गुरु धाम -- आनन्दधाम , पाने खुशियां अपार
      बस रूट
      पुरानी दिल्ली रेलवेस्टेशन से नांग्लोइ तक २१९ ,९२० ,९२८
      नई दिल्ली रेलवेस्टेशन से नांग्लोइ तक जी एल ९१, ९१८
      बाईपास से पीराग्ढी तक हरियाणा , पंजाब ,आदि) ८८३
      निजामुदीन स्टेशन से नाग्लोई तक ९६६
      आनन्द विहार बस अडडासे नाग्लोई तक २३६
      पीरागढी से नाग्लोई तक ९१८, ९३१ ,९४२ ,९७८ , ९९८
      होज्खास से बक्करवाला तक ७६५
      शिवाजी स्टेडियम से बक्करवाला तक ९६३
      पंजाबी बाग से बक्करवाला तक ९३१
      भजन्पुतरा से नाग्लोई तक २५४ , ९१८
      आजादपुर से नजफ्गढ वाया बक्करवाला रोड ९२८
      पुरानी दिल्ली रेलवेस्टेशन से नजफ्गढ वाया बक्करवाला रोड ९२३
      पंजाबी बाग से नजफ्गढ वाया बक्करवाला रोड ९२३

      पीरागढी व नागलोई से बक्करवाला तक आर . टी . वी भी चलती हे जो आश्रम से होकर जाती हैं !

    • आनन्दधाम गुरु का धाम हे ,आनन्दधाम आश्रम में आप सभी भक्त जनों का स्वगत हे ! आश्रम पहुचने पर स्वगत्कक्ष या दिव्य्लोक धर्मशाला मेम धर्माचार्य से सम्पर्क करें !

    पता ;-आनंदधाम आश्रम , बक्करवाला मार्ग नांगलोई नजफगढ़ मार्ग ,नई दिल्ली ११९९४१



    --


    --
    Posted By Madan Gopal Garga to ANANDDHAM.ORG at 3/02/2009 12:53:00 PM

    Fwd: [ANANDDHAM.ORG] photographs are of Ganesh Laxmi Maha Yagya2008.-4


    ---------- Forwarded message ----------
    From: Madan Gopal Garga <mggarga312@gmail.com>
    Date: Mon, Mar 2, 2009 at 12:48 PM
    Subject: [ANANDDHAM.ORG] photographs are of Ganesh Laxmi Maha Yagya2008.-4
    To: mggarga@gmail.com









    --
    Posted By Madan Gopal Garga to ANANDDHAM.ORG at 3/02/2009 12:43:00 PM

    Tuesday, January 20, 2015

    जब आप क्रोध



    Visit Daily BLOGS For MORE POSTINGS
    http://jiggyaasa.blogspot.in/
    http://adhyatmik.blogspot.in/
    http://rajmgarg.blogspot.in/
    http://guruvatikasechunephool.blogspot.in/
    http://wwwmggsantvani.blogspot.in/
    http://ammritvanni.blogspot.in/
    http://guruvanni.blogspot.in/
    http://mggarga.blogspot.in/




    परम पूज्य सुधांशुजी महारा


    • जब आप क्रोध करते हें ,निराश होते हें ,या चिंता में होते हें ,ये सब आदमी को रोग ग्रस्त करती हें मगर आप आनंद में भगवान् को धन्यवाद देते हुए खुश होकर जीयगे तो आपकी उंर बढ़ती है

    Monday, January 19, 2015

    जीवन एक


    परम पूज्य सुधांशुजी महाराज


    • श्री कृष्ण ने कहा है की जीवन एक संघर्ष है, एक चुनोती है ,परीक्षास्थल है ,रणक्षेत्र है -इसका सामना करना होगा ,परीक्षा देनी होगी ,संघर्ष तब तक रहेगा जब तक साँस चलेगा ,इसलिए संघर्ष से भागना नहीं स्थिर होकर उसका साना करना

    जिंदगी एक


    परम पूज्य सुधांशुजी महाराज

    • जिंदगी एक एक पल से बन कर बनती है ,अगर जीवन को सम्मान देना चाहते हो तो समय को बरबाद मत होने दो

    Sunday, January 18, 2015

    इस में भगवान


    परम पूज्य सुधांशुजी महाराज




    • वाणी को गंदा मत होने दो ,इस में भगवान का नाम बसता है ,तो वाणी को पवित्र रखो !

    स्वयं को समझाने के लिए


    परम पूज्य सुधांशुजी महाराज


    दूसरों को समझाने के लिए अनेकों शास्त्र ,दर्शन ,तथा ज्ञान विज्ञान के ग्रन्थों को पढ़ने की आवश्यकता होती है! परन्तु स्वयं को समझाने के लिए उन सभी पर दृढ विश्वास और उनका आचरण करना होता है ! 

    Saturday, January 17, 2015

    किसी कार्य




    परम पूज्य सुधांशुजी महाराज



    किसी कार्य को करने से पहले अगर योजना ठीक से बनाई गयी है तो सफलता अवश्य मिलती है 1

    दो ही चीजें हैं



    इस दु:खभरी दुनिया में दो ही चीजें हैं -प्रसन्नता से आनंदित होकर गाओ अथवा दु:खों से पीड़ित होकर रोओं! जिंदगी प्रसन्नता का दूसरा नाम है !हर क्षण ,हर पल मुस्कराने का नाम जीवन है ! 

    Friday, January 16, 2015

    इमानदार आदमी






    इमानदार आदमी हिमत हार जाता है और कर्म छोड़ कर भगवान् के ऊपर छोड़ देता है -कर्म करो किस्मत को मत दोष दो !

    Thursday, January 15, 2015

    भग्वान बोलते हे




    1 ] प्रार्थना में भगत बोलता है और भग्वान चुप रहते हे ! 
    2 ] ध्यान में भगत चुप रहता है और भग्वान बोलते हे !

    इधरउधर भागने की



    इधरउधर भागने की जरुरत नहीं है ,एक अपने ईश में ,एक गुरु में एक धर्म में ,एक कर्म में विश्वास रखो तो सब ठीक होजायगा ! 

    Wednesday, January 14, 2015

    भाग्यवादी निराशावादी






    बहुत भाग्यवादी निराशावादी मत बनो ,अति मत करो मध्यम से चलो न भगवान् से मुंह मोडो न संसार से मुंह मोडो सामंजस्य बना कर रखो ! 


    Tuesday, January 13, 2015

    प्रकिृति



    ख़ुद खा लेना प्रकिृति ,
    छीन कर खाना विकृति  ,
    अपना भाग भी दूसरों को देदेना संसकृती ! 

    Monday, January 12, 2015

    घमंड में आदमी





    घमंड में आदमी फूलता जरूर है पर फैलता नहीं है न फलता है !
    काल का भी काल महाकाल है !
    जिल्लत की जिन्दगी मौत है !

    अपने को शांत




    अपने को शांत बनाओ ,उलझनों में मत फंसो -ऍम बड़ा रखो ऊँचे से ऊँचे उठो - नियम बनालो उलझाना नहीं है 

    Sunday, January 11, 2015

    भलाई के लिय





    भलाई के लिय संकोच कर जाते हैं ,लड़ाई के लिय समय अपने आप निकल आता है 

    जब तक आप अपने




    जब तक आप अपने आप को नहीं सम्झायागे ,समझ नहीं आयगी ,भगवान समझाने नहीं आयंगे ,और बहार से किसी शब्द की पड़ेगी चोट तब समझ आजायगी।

    Saturday, January 10, 2015

    कर्म करना एक




    कर्म करना एक महत्त्वपूर्ण अंग है ,मगर इस से पहले ठीक योजना बनाओ ,ठीक पलानिंग करो ,और निर्णय लेने के बाद भी केईबार उस पर सोचो और जब ठीक समझो तो उस पर जी जान लगा कर अमल करो ! 

    Thursday, January 8, 2015

    विचार शक्ति


    1. विचार शक्ति हमें प्रेरित करती है कुछ भी कराने को !

    हंसना ,हंसाना



    हंसना ,हंसाना ,गुनगुनाना अगर ख़तम होगया तो दिमाग भी कमजोर होजाता है !

    Wednesday, January 7, 2015

    भगवान मुझे





  • प्रजापति यानी है भगवान मुझे ऐसी बुद्धी दो की दूसरों का भी भला कर सकूँ !
  • जिन्दगी का गुजारा



    Visit Daily BLOGS For MORE  POSTINGS


    परम पूज्य सुधांशुजी महाराज

     मदन गोपाल गर्ग ,एल एम्, वी जे एम्


    • जिन्दगी का गुजारा करना एक बात है और ज़िन्दगी को जीना आना दूसरी बात है

    इमानदार आदमी




    इमानदार आदमी हिमत हार जाता है और कर्म छोड़ कर भगवान के ऊपर छोड़ देता है -कर्म करो किसमत को दोष मत दो !

    Tuesday, January 6, 2015

    kabhi kabhi







    हम भारतीयों का दुरभाग्य






  • हम भारतीयों का दुरभाग्य यह है की हम भाग्यवादी हैं !
  • धन कमाना एक





  • धन कमाना एक बात है और उसका उपयोग करके आनंद उठाना एक बात है !
  • प्रार्थना ह्रदय






  • प्रार्थना ह्रदय का प्रेम होता है !
  • है प्रभू में अपना घर भूल गया हूँ मुझे सुमती दें !
  • Monday, January 5, 2015

    व्यक्तिगत उन्नति



    1. व्यक्तिगत उन्नति भी जरूरी है और सामाजिक उन्नति भी जरूरी है !

    भगवान ने अपना


    1. भगवान ने अपना कानून अपने से भी ऊपर रखा है !

    Sunday, January 4, 2015

    अपनी ममता की





    जब आदमी अपनी ममता की भी समाज के लिए कुरबानी करता है तो वह बहुत उंचा आदमी है ! 

    इतने भावुक




    इतने भावुक मत हो जाना किसमाज के बारे में सोचते सोचते अपने घर को ही भूल जाओ ! 

    Saturday, January 3, 2015

    ग़लत स्वभाव





  • भगवान मेरे जो ग़लत स्वभाव हें मुझे उन्हें सुधारने की शक्ती दो 
  • आदमी का पेट तो भर जाता है मगर मन नहीं भरता !
  • भगवान इतना देते हें की आप की जरूरत पूरा कर देता है मगर हवस पूरी नहीं कर सकता 
  • Friday, January 2, 2015

    घर में शान्ती



    घर में शान्ती की जरूरत है मगर समाज में क्रांती की जरूरत है ! 

    Thursday, January 1, 2015

    इतने एड्जसट्मेंट वाले




    • इतने एड्जसट्मेंट वाले मत बनो की तुम को लोग और एड्जसट्मेंट कराने को कहें !

    अपने घर को शांत





    • अपने घर को शांत रखने के लिए अगर सहना भी पड़े तो सहन कर लो मगर अगर दबाने के लिए करा जाए तो मत सहना !