welcome to the blog

you are welcome to this blog .PLEASE VISIT UPTO END you will find answers of your jigyasa.

See Guruji giving blessings in the end

The prashna & answers are taken from Dharamdoot.




AdSense code

IPO India Information (BSE / NSE)

Friday, July 31, 2015

भोर का उजाला




" नवसूर्य, नूतन किरणें , नव आशायें, नई आकांक्षाए, नव कमल, नव सुमन लेकर नववर्ष आता  हैं ।  इसका स्वागत करो , तमस के पार जाकर, भोर का उजाला अपने जीवन में बिखेरें । नववर्ष में भक्ति - शक्ति का जागरण हो, सुख समरिद्धि की अभिवृद्धि हो, इसी पावन मंगलकामना के साथ नव वर्ष का स्वागत किया करो ।"

बहिर्मुख वृति

"बहिर्मुख वृति आपकी बनी हुई है। ससार की तरफ घूमती हुई वृति, वो आपको परमात्मा की तरफ या कहना चाहिए अपने आपको जानने की तरफ नही जाने देती । और उसका परिणाम यह होता है कि हम एक भीड़  में ,जैसे भेड़ों का झुंड चलता है, उस तरह से, भीड़ की तरह से जीने लग जाते है। तो आप अपने अन्दर कोई विशेषता नहीं ला पाते।

आप अपने अन्दर एक पवित्र  इन्सान बन सके, आप अपनी शान्ति के साथ जी सके, अपने प्रेम के साथ जी सके, अपने अन्दर एक सतोगुण को आप जन्म दे सके तो वो बहुत बडी चीज है।"

thane satsang 2010

आज जो

Visit Daily BLOGS For MORE POSTINGS
http://jiggyaasa.blogspot.in/
http://adhyatmik.blogspot.in/

http://rajmgarg.blogspot.in/
http://guruvatikasechunephool.blogspot.in/
http://wwwmggsantvani.blogspot.in/
http://ammritvanni.blogspot.in/
http://guruvanni.blogspot.in/
http://mggarga.blogspot.in/




परम पूज्य सुधांशुजी महारा

आज जो अवसर आपको मिला है उसे खोइए मत । समय की हानि सबसे बड़ी हानि है।

Thursday, July 30, 2015

दोडतों के पीछे

Visit Daily BLOGS For MORE POSTINGS
http://jiggyaasa.blogspot.in/
http://adhyatmik.blogspot.in/

http://rajmgarg.blogspot.in/
http://guruvatikasechunephool.blogspot.in/
http://wwwmggsantvani.blogspot.in/
http://ammritvanni.blogspot.in/
http://guruvanni.blogspot.in/
http://mggarga.blogspot.in/




परम पूज्य सुधांशुजी महारा

दोडतों के पीछे दौड़ो मत पता करो कहाँ जाना है दौड़ कर अंधी दौड़ मत दौड़ो 1  


Tuesday, July 28, 2015

जो भाग्य

Visit Daily BLOGS For MORE POSTINGS
http://jiggyaasa.blogspot.in/
http://adhyatmik.blogspot.in/

http://rajmgarg.blogspot.in/
http://guruvatikasechunephool.blogspot.in/
http://wwwmggsantvani.blogspot.in/
http://ammritvanni.blogspot.in/
http://guruvanni.blogspot.in/
http://mggarga.blogspot.in/




परम पूज्य सुधांशुजी महारा


"जो भाग्य में है , वह
               भाग कर आएगा,
जो नहीं है , वह 
          आकर भी भाग जाएगा...!"


मगर भाग्य पर मत बैठे रहो कर्म करते जाओ 
कर्मशील बनो भाग्यवादी नहीँ 

Monday, July 27, 2015

जीवन


  • जीवन जीते जीते जीवन के सांझ सामने आजाती हे मगर जीना नहीँ आया !

Sunday, July 26, 2015

जीवन में



जीवन में किसी का भला करोगे,तो लाभ होगा...
क्योंकि भला का उल्टा लाभ होता है ।

Saturday, July 25, 2015

कुए में

कुए में उतरने वाली बाल्टी यदि झुकती है,तो भरकर बाहर आती ,जीवन का भी यही गणित है,जो झुकता है वह प्राप्त करता है.

गुरुवर आना पडेगा

गुरुवर आना पडेगा


गुरुवर आना पडेगा गुरुवार तुम को आना पडेगा ,


प्यार से पुकारा तुम को आना ही पडेगा !


आकर देना गुरुवर मुझ को इतनी शक्ती ,


बिसरे न कभी तुम्हारी भक्ती !


लगा बैठा हूँ में तेरे चरणों की आस ,


आकर गुरुवर मिटा दो दिल की प्यास !


में तुम्हारी भक्ती में इतना डूब जाऊं ,


की अपना होश भी खो जाऊं !


तेरे पैरों की आहट से ,


लग जाए मुझे पता की गुरुवर आए हैं यहाँ !


तेरी सुगंध से ही महके वातावरण ,


और सूघं कर पता लग जाए आप के आने की ख़बर !


में जिधर भी देखूं तेरी सूरत ही दिखाई दे ,


हमेशा मेरे आस पास तुही दिखाई दे !


तेरी महिमा हे निराली ,


गुरुवर मुझ पर भी करदो महरबानी,


तुझ से इतना प्यार पाऊं ,कहे मदन गोपाल कि ,


दुनिया ही भूल जाऊँ !

Thursday, July 23, 2015

सात क़ा रहस्य



सात क़ा रहस्य
आपका शरीर सात चक्रों में बंधा हुआ हें ! सात दिनों में ही जिंदगी पूरी होती हें ,सात सुरों में सारा संगीत बंधा हुआ हें ! रंग भी सात हें ,समुन्द्र सात हें ,सप्त आहुतियाँ हें ,सप्त द्वीप हें , सप्त ऋषि हें ,इसलिए सात क़ा बड़ा महत्त्व हें , इन सात दिनों में अपने जीवन को व्यवस्थित कर लें ,तो आपका कल्याण जो जायेगा !
गुरुवर सुधांशुजी महाराज के प्रवचनांश 

Wednesday, July 22, 2015

आपके द्वारा




आपके द्वारा जितने लोग दुनिया में अच्छाई पर चलतेजायेंगे, उनके पुण्यों का कुच्छ-न-कुच्छ भाग आपके खाते में जुडता चला जायेगा।

Tuesday, July 21, 2015

अपनी समृद्धि के

अपनी समृद्धि के विस्तार में कभी किसी प्रकार का प्रमाद न करें। ज्ञान का विस्तार करने में, विद्या अध्ययन करने में कभी आलस्य नहीं करना, जो आपने अपने जीवन में सीखा, पुस्तकों से सीखा, गुरुओं से सीखा, उसको निरन्तर दोहराओ जिससे ज्ञान आपके काम आ सके। पढ़ना, समझना और फिर जीवन में उतारना यही ज्ञान का उपयोग है।

Sunday, July 19, 2015

इंसान पदार्थो का





इंसान पदार्थो का बहुत महत्व मानने लग जाता है। ज्ञान की बडी-बडी बातें भी करता है, लेकिन प्राप्ति तब होती है जिस दिन यह अहसास हो जाता है कि पदार्थ दिए हैं मालिक ने खेल करने के लिए, मालिक ले भी सकता है। लेकिन मुझे पदार्थ के पीछे नहीं भागना है, मालिक को ही पकड़ लेना है।

Saturday, July 18, 2015

छोड़ना मत



  • भगवान को भूलना मत ,

  • सत्य को छोड़ना मत ,

  • संपति से फूलना मत ,

  • विपत्ती मैं मुरझाना मत ,

  • परमार्थ सेवा करने  से रुकना मत !

Friday, July 17, 2015

कर्म का फल






परम पूज्य सुधांशुजी महारा

कर्म का फल कबही नहीं मिलता ! कर्म के पीछे की भावना के अनुसार फल मिलता है ! जैसी भावना होगी फल वैसा ही मिलेगा !

Thursday, July 16, 2015




"बड़ी चीज़ हाथ में  आ जाए तो छोटी को फेंकना नहीं । तलवार हाथ में आ जाए तो सुई को नहीं फेंकना । बड़े लोग तुम्हें मिल जायें तो छोटे को भूलना नहीं । पता नहीं बड़ा कब आये और कब दूर हो जाए, लेकिन जो छोटा है, वह एक बार किसी का हो जाए तो फिर दूर नहीं जाता है। साधारण लोग भी बड़े महत्वपूर्ण होते है। जिनको आप बहुत बड़ा कहते है, उनके अन्दर बड़प्पन का अहंकार भरा रहता है और पैसे के कारण वे बड़े आदमी कहलाते है। पैसा छाया के समान है। छाया घटती  बढ़ती रहती है। इसलिए छाया की तरफ ध्यान न देकर उसकी तरफ ध्यान दो, जिसके कारण यह छाया बढ़ती और घटती है।"

बाजार में जाते समय



बाजार में जाते समय बहुत तरह की चीज़े देखते हैं , कुछ आकर्षक हैं तो कुछ सामान्य्।

किसी का अच्छा मकान देखकर, मन में विचार आया होगा कि मुझे अवसर मिले तो ऐसा ही मकान मै भी बनाऊँगा । आकर्षक जेवर देखकर प्रायः महिलाओं के मन में भावना आती है कि कभी पैसे होंगें, अवसर आएगा तो जरुर ऐसे जेवर बनवाएंगे। रास्ते के कूड्रे  कचरे को देखकर आपके मन में कभी कोई आकर्षण पैदा नहीं होता, बल्कि उसे उपेक्षा से देखते है। उधर से ध्यान हटा लेते है, उसे आप कभी भी याद नहीं रखना चाहते। जिसे आप याद नहीं रखना चाहते उसे आप उपेक्षा से देखते है। संसार को भी उपेक्षा से देखिए। अन्यथा इस संसार में जहां भी चलेंगे, जिसे भी देखेंगे, उसकी धूल आपके अन्तःकरण पर जरूर पडेगी और फिर वह खींचकर पूरी तरह से संसार की तरफ ले जाएगी।

Paropkaar



 

1. Paropkaar bohota baara yagya hai

2. Ek dusare ke kaam aana he jiwan hai aur Use Bharat khand mai SANASKRITIkahaa gaya hai 

Wednesday, July 15, 2015

कमजोर मनशक्ति






परम पूज्य सुधांशुजी महारा

१. कमजोर मनशक्ति ही अंधविश्वास क़ा बहुत बड़ा कारण है

२. मनुष्य को ज्यादा भाग्यवादी नहीं बनना चाहिए वरना उसकी कर्म करने की शक्ति कमजोर हो जाती है और वह आगे नहीं बढ़ पाता

मन के आदत

Visit Daily BLOGS For MORE POSTINGS
http://jiggyaasa.blogspot.in/
http://adhyatmik.blogspot.in/

http://rajmgarg.blogspot.in/
http://guruvatikasechunephool.blogspot.in/
http://wwwmggsantvani.blogspot.in/
http://ammritvanni.blogspot.in/
http://guruvanni.blogspot.in/
http://mggarga.blogspot.in/




परम पूज्य सुधांशुजी महारा

मन के आदत हे पिसे को और पीसता रहता हे और जब आटा पिसते पिसते ख़तम हों जाता हे तो फिर वह हम को पीसता हे !

Tuesday, July 14, 2015

संसार में समय

Visit Daily BLOGS For MORE POSTINGS
http://jiggyaasa.blogspot.in/
http://adhyatmik.blogspot.in/

http://rajmgarg.blogspot.in/
http://guruvatikasechunephool.blogspot.in/
http://wwwmggsantvani.blogspot.in/
http://ammritvanni.blogspot.in/
http://guruvanni.blogspot.in/
http://mggarga.blogspot.in/




परम पूज्य सुधांशुजी महारा

संसार में समय को बहुमूल्य संपदा माना गया है। समय की रफ़्तार इतनी तीव्र है कि पलक झपकते ही आप पिछड़ सकते है। इसलिए अपने जीवन के हर पल को, क्षण को कीमती मानकर उसका सदुपयोग करो। समय को कभी बरबाद मत करना। क्योंकि समय को जो व्यर्थ बिता देते है, समय उनको बरबाद कर देता है।"

Monday, July 13, 2015

"जन्म देने वाले



"जन्म देने वाले मालिक ने जीभ तो बनाई एक, पर कान बनाए दो। दो कान इसलिए बनाए कि ज्यादा सुन लेना, लेकिन ज्यादा बोलना नहीं । जितना बोलना नाप-तोल कर ही बोलना।

जीभ के आगे भगवान ने दरवाज़ा लगाया है, इसे बन्द करने के लिए। जिन्दगी में इंसान जितना भी बुरा करता है, ज्यादातर तो बुरा इस जीभ से ही करता है। इस जीभ का प्रयोग हथियार के रुप में कभी मत करना।"

यदि किसी को

Visit Daily BLOGS For MORE POSTINGS
http://jiggyaasa.blogspot.in/
http://adhyatmik.blogspot.in/

http://rajmgarg.blogspot.in/
http://guruvatikasechunephool.blogspot.in/
http://wwwmggsantvani.blogspot.in/
http://ammritvanni.blogspot.in/
http://guruvanni.blogspot.in/
http://mggarga.blogspot.in/




परम पूज्य सुधांशुजी महारा


"यदि किसी को कुछ दे दिया जाए तो उसे सदा गुप्त ही रहने दो। घर में जब कभी कोई आ जाए तो उसका विधिपूर्वक सत्कार करो। यदि किसी का प्रिय कार्य कर दिया है तो उसके सम्बन्ध में मौन रहो और यदि किसी ने तुम्हारा उपकार किया है तो उसे सबके सामने प्रकट करते रहो।"

Sunday, July 12, 2015

चिंता से


चिंता से चिंतन को और यात्रा करो, मन शांत होगा.

Saturday, July 11, 2015

प्रत्येक इन्द्रिय का अपना


"मनुष्य की प्रत्येक इन्द्रिय का अपना धर्म है । उसे अपने धर्म का पालन करना चाहिये ।

आँख का धर्म है समस्त प्राणियों में ईश्वर का दर्शऩ करें । कान का धर्म है महापुरुषों की अमृतवाणी सुनना, दूसरों की अच्छाइयाँ सुनना। मुख का धर्म है सत्य और प्रिय वचन बोलना । हाथों का धर्म है सत्कर्म करना, सेवा धर्म अपनाना। प्रत्येक मनुष्य का धर्म है कि अपने प्रति, परिवार के प्रति, समाज के प्रति, राष्ट्र के प्रति अपने कर्तव्यों को पूरा करें।"


भविष्य की नींव

Visit Daily BLOGS For MORE POSTINGS
http://jiggyaasa.blogspot.in/
http://adhyatmik.blogspot.in/

http://rajmgarg.blogspot.in/
http://guruvatikasechunephool.blogspot.in/
http://wwwmggsantvani.blogspot.in/
http://ammritvanni.blogspot.in/
http://guruvanni.blogspot.in/
http://mggarga.blogspot.in/




परम पूज्य सुधांशुजी महारा


"भविष्य  जानने की कोशिश मत करो। भविष्य परमात्मा के हाथ में है, वर्तमान आप के हाथ में है। भूतकाल बीत गया, उस की कोई कीमत नहीं । वर्तमान को अच्छा बना रहे है तो भविष्य की नींव डाल रहे हैं ।"

Friday, July 10, 2015

भविष्य जानने

Visit Daily BLOGS For MORE POSTINGS
http://jiggyaasa.blogspot.in/
http://adhyatmik.blogspot.in/

http://rajmgarg.blogspot.in/
http://guruvatikasechunephool.blogspot.in/
http://wwwmggsantvani.blogspot.in/
http://ammritvanni.blogspot.in/
http://guruvanni.blogspot.in/
http://mggarga.blogspot.in/




परम पूज्य सुधांशुजी महारा



"भविष्य  जानने की कोशिश मत करो। भविष्य परमात्मा के हाथ में है, वर्तमान आप के हाथ में है। भूतकाल बीत गया, उस की कोई कीमत नहीं । वर्तमान को अच्छा बना रहे है तो भविष्य की नींव डाल रहे हैं ।"

अन्याय , अभाव



अन्याय , अभाव और आलस्य अज्ञानता के कारण ही पैदा होते है। ज्ञान हो तो यह सारी चीजें मिटने लगती है। सबसे पहले अज्ञान का नाश करने की बात सोचिए। अज्ञान का नाश ऐसे नहीं होगा कि आपने पुस्तकें पढ़ लीं और सत्संग सुन लिया। यह तो माध्यम मात्र हैं । पढ़ने, सुनने के बाद मनन ज्ररुर करें कि मैं इन विचारों को जीवन में कैसे अपना सकता हूं और इनसे कैसे प्रेरणा ले सकता हूं ।

devi mantra



Ya devi sarva bhutesu, shanti rupena sansitha 
Ya devi sarva bhutesu, shakti rupena sansthita
Ya devi sarva bhutesu, matra rupena sansthita 
Namastasyai, namastasyai, namastasyai, namo namaha!

Sarva mangala maangalye shive sarvaartha saadhike
Sharanye trayambake Gauri
Narayani namosthute

Namoh devyai mahadevyai shivayai satatam namah
Namah prakrutyai bhadraayai niyataah pranataahsma taam

Annapoorne sadapoorne shankarah praanavallabhe
Njana vairaagya sidhyardham bhikshaam dehi cha parvati

Thursday, July 9, 2015

हम हमेशा डरते




हम हमेशा डरते रहते  हें कि हम मिट न जाए , हम खो न जाए ,हमारा कुछ छिन  न जाए , कोई हमारा हुछ ले न ले ,हर समय डर में सहमे हुए हें ,चिंताओं में जी रहे हें ! याद रखो निराशा ,डर हमें खोखला कर देता हें इन से बचो !  

Wednesday, July 8, 2015

जबान काम


जबान काम चलाओ शरीर ज्यादा चलाओ !

put your worries




Put your concerns, your worries, your fears, your hopes, your dreams, your family and your relationships in God's hands because...
they all depend on in whose hands they are in
. With HIS blessings, positive things will enter your life and all the negativities will vanish.


आज का काम

Visit Daily BLOGS For MORE POSTINGS
http://jiggyaasa.blogspot.in/
http://adhyatmik.blogspot.in/

http://rajmgarg.blogspot.in/
http://guruvatikasechunephool.blogspot.in/
http://wwwmggsantvani.blogspot.in/
http://ammritvanni.blogspot.in/
http://guruvanni.blogspot.in/
http://mggarga.blogspot.in/




परम पूज्य सुधांशुजी महारा



आज का काम भलीभान्ति पूरा करने के अलावा बाकी समस्त महत्वाकांक्षाओं को त्याग दो। सफ़लता के मार्ग पर चलने वाले वर्तमान में जीते हैं वे कल की नहीं सोचते। आपके हाथ में जो समय है उसे सँभालना है। जो बीत गया है उसकी बात नहीं करना।

Tuesday, July 7, 2015

धर्म हे


 Visit Daily BLOGS For MORE POSTINGS
http://jiggyaasa.blogspot.in/
http://adhyatmik.blogspot.in/

http://rajmgarg.blogspot.in/
http://guruvatikasechunephool.blogspot.in/
http://wwwmggsantvani.blogspot.in/
http://ammritvanni.blogspot.in/
http://guruvanni.blogspot.in/
http://mggarga.blogspot.in/




परम पूज्य सुधांशुजी महारा

धर्म हे क्षमा ,धर्म हे धैर्य ,धर्म हे दमन करना ,धर्म हे सत्य को अपनाना  ,धर्म हे क्रोध से बचना इन सब को जो अपना लेता है 
वाही धार्मिक कहलाता है !




Monday, July 6, 2015

अपने प्रिये को



अपने प्रिये को उसके गुण और दोषों के साथ स्वीकार करो , उसने भी तुम्हे ऐसे ही स्वीकार किया है !



Sunday, July 5, 2015

जीवन संगीत है




जीवन संगीत है। सुर से बजाओगे तो बहुत अच्छा है, मधुर है और अगर सुर से भूल गए तो शोर है जीवनऔर उसको खुद भी नहीं सुन पाओगे दूसरे तो क्या सुनेगें ।

जीवन है चुनौती । नित नई नई चुनौती बनकर सामने आती हैं । जब आप बहादुर होकर चुनौती को स्वीकार करते हैं

तो वो कुछ न कुछ देकर ही जाएँगी, कुछ लाभ देंगी ।

Saturday, July 4, 2015

खाली समय


खाली समय का उपयोग करना जानो ,व्यर्थ चीजों को काम मैं लाना सीखो  !

Friday, July 3, 2015




अपने कर्म पर और अपने भगवान पर भरोसा रखिए। उस परमात्मा ने आपको बडी शक्ति दी है। उसके नाम में बड़ा बल है और आपके काम में बड़ा बल है। आप किसी का दर्द दूर कर दोगे तो वह प्रभु आपका दर्द अपने आप दूर करता है। पुण्य करोगे तो आपका पुण्य आपके आगे आयेगा , आपको बचायेगा। गृहस्थ लोगों को ऐसा कुछ पुण्य आदि तो करते रहना चाहिए ।

Thursday, July 2, 2015

भाग्य क्या है ?

Visit Daily BLOGS For MORE POSTINGS
http://jiggyaasa.blogspot.in/
http://adhyatmik.blogspot.in/
http://rajmgarg.blogspot.in/
http://guruvatikasechunephool.blogspot.in/
http://wwwmggsantvani.blogspot.in/
http://ammritvanni.blogspot.in/
http://guruvanni.blogspot.in/
http://mggarga.blogspot.in/




परम पूज्य सुधांशुजी महारा



भाग्य क्या है ? अवसर और तत्परता, दोनों का मिलन ही भाग्य है। जो अवसर को पह्चान ले और तत्परता से पकड़ ले, बस समझ लीजिए भाग्य हाथ में आ गया। अवसर को ढूढिए, अवसर को पहचानिए और तत्परता से फ़ायदा उठI लीजिए, नहीं तो वो लौट के आने वाला नहीं है।

Wednesday, July 1, 2015

करले भला




करले भला, होगा भला,

बस यही है संसार में जीने की कला।