welcome to the blog

you are welcome to this blog .PLEASE VISIT UPTO END you will find answers of your jigyasa.

See Guruji giving blessings in the end

The prashna & answers are taken from Dharamdoot.




AdSense code

IPO India Information (BSE / NSE)

Saturday, March 1, 2014

Fwd: [Sarathi] स्वभावेन हि तुष्यन्ति देवा: सत्पुरुषा: पिता।...


Anil Singh
Anil Singh
स्वभावेन हि तुष्यन्ति देवा: सत्पुरुषा: पिता। ज्ञातय: स्वन्न-पानाभ्यां वाक्यदानेन पण्डिता:।।
भावार्थ : उत्तम स्वभाव से ही देवता, सज्जन और पिता संतुष्ट होते हैं। बंधु-बांधव खान-पान से और श्रेष्ठ वार्तालाप से पंडित अर्थात विद्वान प्रसन्न होते हैं।



No comments: