welcome to the blog

you are welcome to this blog .PLEASE VISIT UPTO END you will find answers of your jigyasa.

See Guruji giving blessings in the end

The prashna & answers are taken from Dharamdoot.




AdSense code

IPO India Information (BSE / NSE)

Tuesday, January 26, 2016

Fwd:


---------- Forwarded message ----------
From: Madan Gopal Garga <mggarga2013@gmail.com>
Date: 2016-01-25 9:07 GMT+05:30
Subject:
To: Madan Gopal Garga <mggarga@gmail.com>


🙏"पचास" साल की उम्र जीवन का ऐसा पड़ाव हैं जब हम वानप्रस्थ की अग्रसर हो जाते है। इस उम्र में आनन्दित रहने हेतू अनिवार्य "पचास" मंत्र।

1. जिंदगी क्रूर है पर फिर भी मज़ेदार है।
2. जब कोई दो विकल्पों में से चुनने में परेशानी आए तो सिक्का उछालें।
3. ज़िंदगी बहुत नायाब तोफा हैं जिसे किसी से नफरत करने में व्यर्थ न करें।
4. अपने को ज्यादा गम्भीरता से न ले। पुरी दुनिया के लिए आप हम मिट्टी का कण मात्र हैं।
5. हमेशा क़र्ज़े से मुक्त रहे।
6. हर वाद विवाद को जीतने की कोशिश न करे। दुसरो के अपने से भिन्न विचारों का भी आदर करे।
7. अपने दुख को किसी विशेष परिजन से अवश्य बाँटे।
8. कभी अपने आप से क्रोध स्वाभाविक है।
9. बुढापे के लिए अाज से जोड़ना शुरू करें।
10. किसी भी मिठाई को चखने में कभी परहेज़ न करे।
11. अपने भविष्य के प्रति उत्साहित रहे,  अपने भुतकाल से समझौता कर ले और अपने वर्तमान में  ख़ुश रहे।
12. अपने बच्चों के सामने भावुक होना बिलकुल समान्य बात हैं।
13. दुसरो से कभी प्रतिस्पर्धा न करे। उनका जीवन आपसे बिल्कुल भिन्न हो सकता हैं।
14. किसी सम्बन्ध को छुपाना पड़े तो हम समझले कि वो अनैतिक हैं।
15. पलकर मैं हमारा जीवन बदल सकता हैं। कभी भी अभिमान न करे और न अपने स्वाभिमान को छोड़े। निरन्तर मेहनत करते रहें।
16. ज़िंदगी आत्मग्लानि के लिए नहीं हैं। शान से जिए या शान से मरें।
17. अगर हम संकल्प कर ले तो किसी भी ऊँचाई को छु सकते हैं।
18. लेखक बनने के लिए लिखना जरूरी है। आज से ही कुछ लिखना श्री करें।
19. दिल में बचपन को हमेशा जीवित रखे।
20. अपने सपनों को साकार करने का उत्साह कभी कम न करें।
21. अपने जीवन साथी को आज से ही भरपूर प्यार दे। कल की इन्तज़ार न करे। कल हो न हो।
22. किसी भी कार्य की भरपूर तैयारी करे फिर जो भी परिणाम हो उससे संतुष्ट रहे।
23. आने वाले बुढ़ापे के प्रति भी सजग रहे। आज से ही अपने खान पान में परहेज़ रखे और भडकीले पहनावे में बचे।
24. उत्साह और उत्तेजना अब ज्यादा दिमाग़ पर निर्भर हैं।
25. हमारी खुशी किसी और पर नही सबसे ज्यादा हमारे उपर ही निर्भर है।
26. किसी भी परेशानी का आंकलन लम्बे समय के परिपेक्ष में करे।
27. दुसरों में कभी न ढुढे बल्कि अपने को बेहतर बनाये । 
28. दुसरो को माफ़ करना और दुसरों की ग़लती को माफ़ करना सबसे उत्तम जीवन मंत्र हैं। 
29. दुसरों के आंकलन से विचलित न हो। अपने को अन्तर मन से तोले।
30. समय बलवान है सब समस्याओं को सुलझा देता है। समाधान में उतावलापन न दिखाए।
31. आज परिस्थिति कितनी भी विपरीत  हो पर निकट भविष्य में हमारे कृपा बरसेगी बस आचार विचार ठीक रखे।
32. व्यवसायी पहचान किसी मुसीबत में काम नही आएगी इसलिए पुरानी दोस्ती क़ायम रखे।
33. चमत्कारों में भी विश्वास रखे।
34. ईश्वर दयालु है। अपनी पुरानी ग़लतियों से परेशान न हो। उन्हे सुधारे और आगे चले।
35. हर मुसीबत हमे मज़बूत बनाती है
36. बुढ़ापे से घबराए नही वह जवानी में मरने से बेहतर है।
37. हमारे बच्चों को एक मात्र बचपन मिलता है। हम पूरा प्रयास करे वह उनके  चिर स्मरणीय हो।
38. गीता हमेशा साथ रखे और रोज पढ़े। 
39. हर सुर्यादय से पहले घर से बाहर ज़रूर निकले। हर रोज कोई चमत्कार होने को है।
40. हमारी समस्याएँ दुसरों की मुसीबतों से बहुत हल्की है। 
41. अपने जीवन का ज्यादा आंकलन न करे। हम जहाँ है जैसे है बहुतों से अच्छे है।
42. कोई भी काम, कोई भी व्यक्ति, कोई भी वस्तु जो हमें खुशी नही देती उससे दूर रहे।
43. आख़िर मैं पैसा नही प्यार ही हमें खुशी देता हैं।
44. जलन हमारे लिए सबसे बड़ा अभिशाप हैं।
45. अच्छे दिन आने वाले है।
46. मन स्थिति कैसी भी हो उठो, चलो, काम पर लगो।
47. गहरी साँस लेने से मन शाँत होता है।
48. पाने के लिए माँगना पड़ता है।
49. झुकना अकड़ने से ज्यादा बेहतर है।
50. जीवन एक नयामत है इसका आदर करे।💐👳


No comments: